Saturday, December 13, 2014

जिन्दा हूँ मैं।

जिन्दा हूँ मैं।

हर रोज़ लड़ता हूँ,
खुद की अकांक्षा के बोझ से,
दिन की नीरसता से,
रात के अँधेरे से.


हर रोज सोचता हूँ,
क्या है कल में,
हक़ीक़त और सपनो के अंतर में,
जीवन से सफर के अंत में,

हर रोज़ कोशिश करता हूँ,
आज को जीने की,
गलतियों से सिखने की,
आज को कल से बेहतर बनाने की,

जिन्दा हूँ मैं; क्योंकि,
हर रोज़ लड़ता हूँ,
हर रोज़ सोचता हूँ और
हर रोज़ कोशिश करता हूँ।

Saturday, December 6, 2014

Rendezvous

Glimmering through the tree leaves,
Drenched in the moon light,
I walk on the country road.

Away from the city light,
And the perpetual city noise,
I listen to the nature.

Chirping cricket and croaking Frog,
Moon lit lonely road,
I hum the old song.

Peaceful mind and dancing heart,
Lost in the hustle of city,
I feel my heart beat.

Like another of me arguing with me,
Debating the decisions yet to take,
I realize myself.

Heart and mind communicates,
Clearing the unclear thoughts,
I promise myself more rendezvous.


Rendezvous