Posts

Showing posts from September, 2013

जाग जाओ, की ये बड़ा शहर है।

Image
सोचा था उफान होगा,
जोश का उबाल होगा,
शहर की चमक,
और नाचना गाना होगा। 

मन में उत्साह होगा,
दौड़ने का चाह होगा,
जीतने का नशा होगा,
खुशियों का पिटारा होगा। 

नये लोग जुड़ेंगे,
रास्ता खुशनुमा होगा,
हँसते-खिलखिलाते,
गाना बजाना होगा।

नए दिन का इंतज़ार होगा,
रात का आराम होगा,
दोस्तों यारों के साथ,
महफिलों का दौड़ चलेगा।

अरे भाई, जाग जाओ,
यहाँ शोर है,
नीचा दिखाने की होड़ है,
पैसों का रौब है,
और इ एम आई की जंग है।

पडोसी अनजान है,
हर दिन जंग है,
रात में कल दिन का डर है
जाग जाओ, की ये बड़ा शहर है।

और डूब कर पार जाना है.

उनकी अदा भी बड़ी कातिल है
करते है वो अफसाने बड़े बड़े; पर जाने क्यूँ, कर के भूल जाते है.
उनका मिजाज भी ज़रा अजब है, ख़ता वो करती है,  हमारे रूठने से पहले, खुद रूठ कर बैठी है.
इकरार है आपके इश्क से, उस बदनाम आशिक ने सच कहा , ये इश्क नहीं आसान, बस इतना समझ लीजिये, आग का दरिया है, और डूब कर पार जाना है.

The Catcher in the Rye

Image
Some years ago, i was at MATRIX event to discuss a book called The Catcher In The Rye. Many people who were into literature were discussing. I had not read the book then but i remember, everyone who had read the book then, were on two opposite pole. Either They loved it, or they hated it with all their heart. But yes, no one was left from the charm. The book made them love or hate. No one was in middle. And i wondered why this book The Catcher in the Rye was banned.
So, i finished this book last night. It is gripping, although it does not offer any thriller or erotic stuff. When i was reading the book, i felt as if J. D. Salinger did not make any effort to write. i imagined him 19 years old writing whatever is coming to his mind. Unfiltered with the opinion and ways of the world, unaffected with the rituals, customs. Uncensored; Pure thought of 18 year old. And since Salinger wrote uncensored, people have to censor it. they banned it. When somebody wants to do whatever co…

की दिल के पास दिमाग नहीं है

ये मेरा डर है
कह दो की नाहक है  दिखा दो की झूठ है दिल अनजान था  की ये मेरा डर  है 
ये खोने का डर  है  कह दो की वादें पक्के थे  दिखा  दो की मेरी समझ अधूरी है  दिल नालायक है   की दिल के पास दिमाग नहीं है 
ये दुरी का डर है  कह दो की गलत है  दिखा दो की सब वही है  दिल नासमझ है की दिल के पास समझ नहीं है 
कह तो दोगी  पर सुनेगा कौन की दिल के पास कान नहीं है  दिखा तो दोगी  पर देखेगा कौन  की दिल के पास आँख नहीं है 
क्या अजीब दुश्मनी है  की दिल के पास दिमाग नहीं है

ho-halla

Image
It takes me 1.5 hours in a day to commute office while by bike, it takes half an hour. Not that there is another shortcut, but because of poor transport facilities. Wasting two hours in day in polluted air, mindless honking hurts. So, the day i have enough money to buy a two wheeler, i will. Because for me, comfort is more important.

In middle of all the ho-halla regarding falling rupee vs dollar, i was going through one blog which was suggesting to use swadeshi to save rupee. Here is the link for  reference:  http://blogs.timesofindia.indiatimes.com/masala-noodles/entry/practise-swadeshi-save-the-rupee .It caught my attention because just few hours before reading the article, i was listening to our PM urging us to reduce petrol  and gold consumption because they are a big sum on our import bill. Have a look on the pie chart with distribution of different imports.
So, 32 percent is petroleum. While its right for them to ask citizens to decrease the petrol consumption. My question is,…