Posts

Showing posts from March, 2014

बुरा भी लगता है।

एन-डी-टी-वी  के रवीश कुमार का एक इंटरव्यू देख रहा था।  हालाँकि आदत है रवीश जी को इंटरव्यू लेते हुए देखने कि पर इस बार वो इंटरव्यू दे रहे थे।  काफी रोचक व्यक्तित्व के मालिक है रवीश जी।  हर मुद्दो पर उनकी राय अनोखी होती है।  अनोखी इसलिए नहीं कि वो कुछ बड़ी बड़ी बातें करते है, या कुछ हट कर बातें करते है।  अनोखी इसलिए क्यूंकि जमीन  से जुडी बातें करते है।  ऐसा नहीं लगता कि सामाजिक - राजनैतिक विषयों का प्रकांड पंडित बातें कर रहा है, बल्कि उनकी बातें हमारी बात होती है।  बिहार के किसी छोटे कस्बे  में चल जाइये, मोहल्ले की कोने में चाय पीते हुए आम जनता सामाजिक और राजनैतिक परिदृश्य की ठीक उसी तरह विश्लेषण करती है जैसी रवीश जी करते है।  


मसलन  रवीश जी कहते है कि मुझे ट्रेन  के खाने से कोई शिकायत नहीं है, कौन सा बार बार खाना है, एडजस्ट कर लीजिये। मुझे याद आती है अपने पापा की, पापा के मित्र की , और ट्रैन के स्लीपर बोगी में चलने वाले सहयात्रियों की  जिनको मैंने ये बोलते सुना है।   

जिस समय में हम रह रहे है, ये समय काफी क्रन्तिकारी है।  बड़े शहरो कि बातें नहीं करूँगा।  अपने शहर कि बात करता हूँ…

वो (भाग १ )

कहने को तो कई साल बीत गए. बात भी नहीं होती अब तो उस से ज्यादा। हाँ, कभी कभार बात होती है. कुछ ख़ास नहीं, बस दुआ-सलाम और हाल-चाल।  दिल की बातें जुबान से कहीं भी नहीं जाती और मैं क्या कोई भी कह नहीं पाता होगा। पर उम्मीद करता हूँ सब पता ही होगा उसे, जो नहीं कहा शायद वो भी।  समय भागा जा रहा है।  मुश्किल है इसके साथ चलना। पीछे पलट कर देखना तो भूल ही जाओ, बस किसी तरह बस हर वक़्त कोशिश करता हूँ  ज्यादा पीछे ना छूट जाऊं। सिनेमा - कहानियाँ कोई यूँ ही नहीं लिखता। अंदर एक कोने में दबे हुए किस्से होते है, जो वक़्त- बेवक़्त छोटी - छोटी चीज़ों से याद आ जाती है।  और मेरे साथ, शायद ये कुछ ज्यादा ही होता है। कितने साल से मेरे बैग में उसकी कलम  है।  उसने माँगा भी था कभी, और मैंने वापस करने का वादा भी किया था।  कह नहीं सकता कि मैं भूल गया या भूलने का नाटक किया, पर नतीज़ा ये है कि  मेरे बैग में अभी भी उसकी कलम है।  नहीं देना चाहता वापस। अधूरी कहानियाँ अच्छी नहीं लगती। बेचैन करती है, अंत जानना जरुरी होता है।  पर क्या अंत होता है किसी कहानी का।  नहीं होता है, बस कहानी का एक भाग ख़त्म होता है।  कहानी …