Saturday, November 30, 2013

The New Bihar

Parliamentary election is due next year, many regional leaders have their eyes on the resulting political scenario after election. It is speculated that no major national party will have clear majority and in such scenario role of regional parties are very important. Talk of third front is on but no one has doubt on the fact that there can not be any government at center without the  support of either BJP or Congress.

The one major regional player in the race to 7 Race Course Road is Nitish Kumar of Janta Dal United. Keeping in mind the equations that may arise after 2014 elections, he aptly distanced himself from BJP, so that tomorrow if need arises, he can embrace Congress with open heart.
Nitish Kumar has publicized development of Bihar as his credential to rise for the top post. But what is the truth behind the so called development of Bihar. The term "development of Bihar"  has been used so much in recent days that it has now become cliche. 

Indeed Bihar has illustrious past which can make anyone from Bihar proud of its origin but what happened in recent past has made Bihari a word synonym for shame. Apart from Aryabhatt, Kautilya, Nalanda University who symbolize the rich heritage in field of education and innovation, Bihar symbolizes birth of India. It was Patliputra, capital of Mauryan Empire who first unified India under one rule and gave India the identity which we perceive now. Shershah Suri built Grand Trunk Road which is still a symbol of pioneer effort in infrastructure which was way ahead of its time. Indigo Movement and JP Movement are first of their kind as they stand for citizen rights and demand of better future.

But what went wrong despite such good heritage?

N. K . Singh in THE NEW BIHAR counts several reasons to this. The Permanent Settlement of 1793 under Lord Cornwallis which introduced Zamindari system was one such reason. Under the system, tax revenues were fixed for each Zamindar which was not related anyway to the agricultural output. Unlike in southern and western India where Ryotwari system was followed where tax revenues were linked with agricultural outputs. Further he blames Freight Equalization Act of 1948, whereby basic raw materials like Iron ore, Coal etc were available at the same price throughout the country This negated the competitive advantage of mineral rich unified Bihar. And the industries that Bihar had, are now in newly created Jharkhand. 

I will back the Nitish Government's claims that they had improved Bihar in many respects. But how much? Is this mere number game? All the development indexies of Bihar were at such low level that any change will mean a significant change in terms of percentage, so rather than being awwed at the numbers and graphs, we should have a reality check. There is significant improvement in law and orders. Unlike in previous regime where every other day some businessman were kidnapped for ransom, now situation has improved. Cases of Murders, robbery has also decreased. In education, giving free cycles to girl has improved the proportion of out-of-school girls from 17.6% to 4.3%. Number of children out-of-school has also dcreased significantly. Health sector has improved. In my hometown Ara, Hospital has become good for sure. There are doctors in the hospital round the clock and ambulance facilities are available now. Road to my village has been built first time in my life. Teacher recruitment is at all time high. So there are positive changes for sure.

Surely there are teachers in the school and enrollment of student in school has also improved. But quality of education is a big question mark. According to Annual Status of Education Reports, 50 percent of the children enrolled in standard five are not able to read at the second standard level. Children in Bihar in specific grades are much older compared to their peers in other states. One harsh reality about high enrollment percentage in school is that parents get their child enrolled because of the freebies sponsored by the government. Thus, you will find student in the school at the time of mid day meal and school dress distribution. And then you will find these children roaming in field in the school dress day after day till they get a  new school dress. Emphasis is on enrolling rather than retaining and educating. Level of urbanization is low. Cities offer very little in terms of job opportunities. There is still no factories that can employ people. Major percentage of urban occupation is construction. Most people  in cities have either shop or government services. Industrialization is still awaited. Bihar buys 98% of its current power requirement which is a heavy burden on state finances. Only 16 % of household have access to electricity and another striking fact is that 40% of total electricity is consumed only in Patna. Red Tapes are still hard to pass by. 

All the facts withstanding, Bihar has huge opportunities in agricultural sector. There are opportunities for agro based industries. Bihar has huge potential for tourism, and for that we need to place proper infrastructure in terms of roads and air connectivity, hotels and law and order. Now things are so far in right direction, lets hope for better future.


Data Source: The New Bihar: Rekindling Governance and Developemnt Edited by N K Singh and Nicholas Stern

Friday, November 29, 2013

ये कहावत जिन्दा क्यूँ है

चीज़ सामान के साथ लोगों की भी आदत हो जाती है। फिर जब जगह-परिस्थिती बदलती है, तो बहुत संघर्ष करना परता है सामंजस्य बैठाने के लिए। दुनिया कहती है कि सब मोह-माया है; "एकला चलो रे" ही सही सिद्धान्त है। पर दूसरी ओर बचपन के निबंधो में अनगिनत बार लिखा वाक्य "मनुष्य एक सामाजिक जीव है। यह महान लोगो के कथन और सदियों से चली चली आ रही कहावते, सब परस्पर विरोधी क्यों है. मैं ऊपर आसमान कि ओर देखा, एक अकेला तारा बड़े शान के साथ टिमटिमा रहा था। दो परस्पर विरोधी विचार जेहन में कौंधे; क्या ये तारा अकेला खुश होगा! क्या क्या वो ये सोच रहा होगा कि अभी तो पुरे आसमान का अकेला राजा है. वही दूसरी सोच ये थी कि क्या इस तारे तो डर लग रहा होगा कि इतने बड़े आसमान में ये अकेला कैसे रहेगा। 

पीछे रोड पर एक बड़ा सा ट्रक कर्कश हॉर्न बजता हुआ निकला। तन्द्रा टूटी। सामने दीवाल पर मैंने लिख रखा है,"First they ignore you, then they laugh at you, then they fight you, then you win." महात्मा गाँधी का ये वाक्य अभी मुझे काफी साधारण सा लगा, पर मुझे याद है, जिन दिनों में मैंने गाँधी जी के विचार को दीवार पर लिखा था, तब जरुरत थी मुझे इस कथन की. कुछ लोगों ने मेरा मजाक बनाया और मैं लग गया खुद को प्रुव करने में, और उस दौरान ये कथन मेरे पर सही बैठी।

फिर सच क्या है?

कौन से कहावत सच है?

सारे या कोई भी नहीं। आखिर सदी दर सदी ये कहावत जिन्दा क्यूँ है।

ये कहावत शायद इस लिए जिन्दा है क्यूंकि ये गवाह है इस बात कि जिस परिस्तिथी में हम आज है, ये कोई नयी नहीं है। हम से पहले भी हज़ार लोगो इस परिस्तिथी से गुजर चुके है, और जो समस्या से हम आज जूझ रहे है, ये कोई नयी नहीं है। और जब इतने लोग ऐसी समस्या से निकल चुके है तो फिर हम क्यूँ नहीं। ये कहावते वैस्विक एकता का उदहारण है कि व्यक्ति चाहे संसार के किसी भी कोने का हो, चाहे जो भी मानता हो, चाहे जो भी बोली बोलता हो, पर वस्तुतः जरुरत एक ही है। हमारी भावनायें एक ही है।

शायद गीता का सार इस लिए लोकप्रिय है क्योंकि वो हमारे अच्छे बुरे सभी कर्मो को सही ठहरा कर आगे बढ़ने में मदद करता है:

जो हुआ, अच्छा हुआ!
जो हो रहा है, वो भी अच्छा हो रहा है!
जो होगा, वो भी अच्छा होगा!


Wednesday, October 23, 2013

Putrification

There can always be a bad time,
How bad is up to me,
Little things that cant buy dime,
Are the most difficult for me.

You are amidst a desert,
With nothing, but sand is sight,
You are gonna die, You have plight,
You are ready as you accept death with desert.

On another note, you are slave,
You work hard, for your master
Who threatens to leave, In the desert,
You die everyday.

The shackles that catch you,
Are too strong,
Tears cant melt them,
Nor can your prayers.

Dear God, how i wish,
there would be a heaven and hell afterlife,
For you believe in instant justice,
You made heaven and hell in this world

Sunday, October 13, 2013

Hang in there!!

My last post invited good response from the readers. I think many people connected with the theme. So, a friend of mine pinged me on gtalk and told me that i wrote well and i should keep on writing. I asked him where he is working. He told me that he was still searching for a job. I am still to start a job hunt but being a dual degree student has given me insight that road ahead is clearly not a cake walk. And even though if i get one, there is absolutely no reason that i will end up liking that. I know a senior of mine who quit MNC to join a political startup and when i talk to him now, he gets all the smile, energy that he forgot during his MNC days. I am not advising anything, i am just saying that stories, that we read in books about some dude in far off land who quit his cushioned life to follow his dreams, happens around us too.

Another friend of mine had certainly not a very pleasurable home condition. But he was focused and he  landed up in one of original 6 IITs in one of core branches. He somehow, did not like engineering very much and he got swayed into UPSC preparations. He was under the assumption that this IIT name will sufficient to get him a job. Unfortunately that does not happened and he had no job offer after his college. We talked quite a long duration during those days. He was worried about his siblings, his parents and about every damn thing that should not affect him. There was a time when he started questioning his deeds in college life and feeling guilt about not studying. Three months after he finished his college, he got a job. He is happy. He does not talk about those things now. He is back to topics of girls. ;) 

What would happen to me, is still in future. But such experience of people around me gives courage and asks just to hang in there, everything will be all right.


Sunday, October 6, 2013

Conversation

While i was waiting for a train to catch which got late by couple of hours, i met this guy Rahul. So, it started with my college tshirt which flaunted BITS. In general mass, BITS is not as popular as IITs, still its quite popular among engineering students. So, this guy stares for about 10 minutes and then comes up and strikes a conversation. Conversation started with the usual pick up line.

Rahul: Hi! You are from BITS!!

Me: Yep!! 

Rahul: Some of my friends study there. You guys have beautiful campus.

Me: We do. Thanks. I am Harsh.

Rahul: I am Rahul. I passed out this year from NIT Calicut. I work these days.

Me: That's nice. We have this internship for one year. I am doing that right now. After this placements.

Rahul: Yeah, I heard this internship helps you guys in PPO. That's very good.

Me: Yeah! thats one advantage. So, you work here in Pune.

Rahul: Yeah! I work in pune. Nice city. Though i dont like here very much.

Me: I dont hate it, but definitely dont love it. Perhaps because we came here right after college. Thats why!

Rahul: Kind of. But thats not the problem i guess. This feeling is of mysterious nature.

At this point of time, i got interested. Because some where this mysterious feeling has been bugging me for quite some time and to some friends too.

Me: What sort of mysterious feeling are you talking about?

Rahul: Like the feeling that you may have been feeling in your spare time. Like the feeling that you are not doing enough. Like you are not doing anything. Like you are wasting yourself. I dont know.....something like that...

He bloated that in one breath. I was beginning to enjoy the discussion.

Me: What else?

Rahul: You feel that too. Dont you?

Me: I guess, I do. But tell me more.

Rahul: Its the thing when you question what you have been doing all the 5 days and why the hell you are enjoying on weekends. Like you question, why the hell you are wasting your precious days, doing nothing.

Me: I thought this is because i am all alone all the days. Thats why i end up questioning everything.

Rahul: Come on! Being alone is just another dimension. Don't you feel a sudden urge of doing something and after sometimes, you feel like ohh crap! How the hell this is gonna help me and why are you wasting your time over it. And after sometimes, you end up doing nothing.

Me: So, what do you want to say?

Rahul: I dont know. Perhaps happens with everyone at our age. We think, are we born to write codes everyday and that too which is not gonna impact the world any how. And we are just doing the redundant thing which million others too everyday.

Me: So, you mean, is this urge to do something complex? 

Rahul: May be....In fact, i start every few days, to do something different. To step towards i dunno where. But it ends in 5 hours, if not than in 5 days.

Me: Right! why does not this thing came early?

Rahul: Perhaps because, we knew the path. That this is the way. Mission sort of thing. Mission: Get marks in class X. After results, Mission accomplished. Mission: Get good engineering college. After admission to good engineering college, Mission accomplished. Mission: Finish 4 years of college. After four years: Mission accomplished. But after that? What next. If your parents/ siblings/ friends are good enough, they tell you your next mission, or you may also make your new mission bu emulating someone. If not, you are open now. No direction. you wanna go in some direction, but which one? You start on a path, get bored, you stop. You are mission less. And there comes the mysterious feeling.  

Me: It does make some sense. But you have job. Why this feeling then?

Rahul: I do have a job. Pays well. But what i am doing, is it significant. It may be significant for company, but someow..i dont know...

There was announcement for train, and we had to part. 

Me: i wish we could talk more..

Rahul: Write my email id.

I approached to scheduled platform, pondering on the conversation. Applying his conditions and definitions on me. Nothing to conclude, no results.  That guy wanted to be heard. Was he explaining himself? 



Wednesday, October 2, 2013

Keeping tab on friends!

So, Yesterday i called up many friends. Pika was in some dance night. First he did not pick up and then called back saying,"darling missing you people. PP se pucha dance night hai. chalega? to wo hug diya!!" (By the way this guy has become kewl dood at IIT-B and now he hugs every girl he meets, and claiming its very social to do that. And BITS lack this culture.)

Then i called Midas. He was on some other call and did not bother to reply back. No hard feelings. I will console myself that i honored brocode for he must be busy with some real important calls from his recent friends that he has made while commuting in Delhi Metro. 

I called Suri. He too did not pick up at first. But he called back soon. I did not ask him reasons for not picking up at the first time. Since he stays at his home, reason was pretty obvious. His phone is at silent all the time. Since WhatsApp notification barely stops. Parents can go mad at that. So, We talked. We talked about Pika's expecated fun in coming days. But you know, you do not want your friend to top when you are last in class.

I called Pato. This guy did not pick up. Later he claimed that he was sleeping. That too at 9 pm. That too when next day is holiday. Well, if i were to believe grapevine, Pato tops every weekend. 

Feynman called two days back. He is now working on correlating spirituality with physics. He believes that there is indeed a connection in these two. His research title is," A novel correlation to prove the existence of God through concepts of quantum physics." He is doing some experiments at Sangam in Allahabad under one padam shri  awarded physicist and shri shri 108 chillam ji maharaj. 

I meet Koonj regularly. He has impressed CS people with his art of deduction and now he is tech lead there. Normally CS people dont make interns tech lead, so Koonj has been promoted to Senior Intern with increment in stipend by 500 INR. Koonj dedicate his success to friendly environment at his home and office.

for PP...mah lyf..mah rulezz.

Monday, September 30, 2013

जाग जाओ, की ये बड़ा शहर है।

सोचा था उफान होगा,
जोश का उबाल होगा,
शहर की चमक,
और नाचना गाना होगा। 

मन में उत्साह होगा,
दौड़ने का चाह होगा,
जीतने का नशा होगा,
खुशियों का पिटारा होगा। 

नये लोग जुड़ेंगे,
रास्ता खुशनुमा होगा,
हँसते-खिलखिलाते,
गाना बजाना होगा।

नए दिन का इंतज़ार होगा,
रात का आराम होगा,
दोस्तों यारों के साथ,
महफिलों का दौड़ चलेगा।

अरे भाई, जाग जाओ,
यहाँ शोर है,
नीचा दिखाने की होड़ है,
पैसों का रौब है,
और इ एम आई की जंग है।

पडोसी अनजान है,
हर दिन जंग है,
रात में कल दिन का डर है
जाग जाओ, की ये बड़ा शहर है।

Tuesday, September 17, 2013

और डूब कर पार जाना है.

उनकी अदा भी बड़ी कातिल है
करते है वो अफसाने बड़े बड़े;
पर जाने क्यूँ,
कर के भूल जाते है.

उनका मिजाज भी ज़रा अजब है,
ख़ता वो करती है, 
हमारे रूठने से पहले,
खुद रूठ कर बैठी है.

इकरार है आपके इश्क से,
उस बदनाम आशिक ने सच कहा ,
ये इश्क नहीं आसान,
बस इतना समझ लीजिये,
आग का दरिया है,
और डूब कर पार जाना है.

Tuesday, September 10, 2013

The Catcher in the Rye

Some years ago, i was at MATRIX event to discuss a book called The Catcher In The Rye. Many people who were into literature were discussing. I had not read the book then but i remember, everyone who had read the book then, were on two opposite pole. Either They loved it, or they hated it with all their heart. But yes, no one was left from the charm. The book made them love or hate. No one was in middle. And i wondered why this book The Catcher in the Rye was banned.
So, i finished this book last night. It is gripping, although it does not offer any thriller or erotic stuff. When i was reading the book, i felt as if J. D. Salinger did not make any effort to write. i imagined him 19 years old writing whatever is coming to his mind. Unfiltered with the opinion and ways of the world, unaffected with the rituals, customs. Uncensored; Pure thought of 18 year old. And since Salinger wrote uncensored, people have to censor it. they banned it. When somebody wants to do whatever comes to his mind, he has two options, get banned or be anonymous. It should not be a surprise that most of the answers/questions on quora is anonymous. I doubt quora would have been such a cult if there would not have been any option of anonymous. 

So, Salinger wrote account of three days of a 18 year old. If you are young, sharing background of Holden, the book should not offer anything new. Yes, it will surprise you that in 1951, teens were much the same as they are today. Having same thought, hating phony people, questioning the education system, hating the speech of teachers, feeling like yawning when someone is teaching you what you should be doing now and how you are wasting your life. There is an incident in the story, Holden calls a prostitute. She gets undressed and Holden asks him if she can just talk to him for a while. Reader feels that Holden just need someone who can listen to him, rather than teaching him, rather than telling life lesson. Holden feels that someone should understand him. And everyone fails. His family, his teacher, his friends, his girl friend. He goes to telephone booth, try to contact people whom he think, will comfort him. And everyone fails.

I personally liked the book, because it speaks mind of 18 years old; cutting across time, place and language.

की दिल के पास दिमाग नहीं है

ये मेरा डर है
कह दो की नाहक है 
दिखा दो की झूठ है
दिल अनजान था 
की ये मेरा डर  है 

ये खोने का डर  है 
कह दो की वादें पक्के थे 
दिखा  दो की मेरी समझ अधूरी है 
दिल नालायक है  
की दिल के पास दिमाग नहीं है 

ये दुरी का डर है 
कह दो की गलत है 
दिखा दो की सब वही है 
दिल नासमझ है
की दिल के पास समझ नहीं है 

कह तो दोगी 
पर सुनेगा कौन
की दिल के पास कान नहीं है 
दिखा तो दोगी 
पर देखेगा कौन 
की दिल के पास आँख नहीं है 

क्या अजीब दुश्मनी है 
की दिल के पास दिमाग नहीं है

Sunday, September 1, 2013

ho-halla

It takes me 1.5 hours in a day to commute office while by bike, it takes half an hour. Not that there is another shortcut, but because of poor transport facilities. Wasting two hours in day in polluted air, mindless honking hurts. So, the day i have enough money to buy a two wheeler, i will. Because for me, comfort is more important.

In middle of all the ho-halla regarding falling rupee vs dollar, i was going through one blog which was suggesting to use swadeshi to save rupee. Here is the link for  reference:  http://blogs.timesofindia.indiatimes.com/masala-noodles/entry/practise-swadeshi-save-the-rupee .It caught my attention because just few hours before reading the article, i was listening to our PM urging us to reduce petrol  and gold consumption because they are a big sum on our import bill. Have a look on the pie chart with distribution of different imports.
So, 32 percent is petroleum. While its right for them to ask citizens to decrease the petrol consumption. My question is, given my situation, why do i think not to buy a bike and use public transport that waste my 2 hours unnecessary. Globalization has increased our purchasing capacity and i do not mind even if the petrol price is Rs. 100 per liter. What if the city offered me a better transport facility? I would not have even thought of buying a bike. Even if it cost me some more time, i would have preferred public transport. Running a big country like India is not an easy task and surely they can not please everybody. But the welfare programs which are major expenditure of government, why cant government cut them little and pays more attention to things that needs immediate attention. Why dont make roads, buy buses, metro project in city like pune which will be facing nightmare traffic situation 10 years later. Instead they are launching Food Security Bill which will cost another handsome percentage of government treasury, and that too in middle of economic crisis. NCERT economics books says due to increased expenditure in social welfare programs in 1980s with  rampant corruption caused debacle that saw economic crisis of 1991. The reforms taken in 1991, were not a natural choice to our rulers then, but it was as a part of the conditions that India was forced to agree while borrowing money from IMF and World Bank. So, the large market that India offered and for what MNCs lobbied were now open. Money came, and so increased our purchasing capacity. My father used to say scooter were luxury back then and these days everyone wants a bike and cars are must for anyone who can afford EMI. On the other side, we failed miserably on manufacturing industry. We still export raw materials which we import as finished good at a higher price.




Sunday, August 25, 2013

मौका तो दीजिये!

रिमझिम फुहारों का भी अपना मजा है,
एक दफा छाता घर भूल के तो आइये,

गलियों में खोने का भी अपना मजा है,
एक दफा रास्ता तो भूल के देखिये ,

गुनगुनाने का भी अपना मजा है,
एक दफा गाना याद तो कीजिये,

मुस्कुराने का भी अपना मजा है,
ज़रा लबों को मौका तो दीजिये!




Tuesday, August 20, 2013

Yes! One more Raksha Bandhan

On the eve of rakshabandhan, i had opportunity to go through this article: http://ireport.cnn.com/docs/DOC-1023053 . Then, i thought yes, we Indian are bad, always ogling on girls, always ready to brand next door girl characterless when she failed to appreciate your moves toward her. Then i thought, i have never heard of festival celebrating special relationship of brother and sister, though i have heard versions of Holi, Diwali, which are celebrated in other part of world. So, what is wrong. Are we just serious about our sisters, and rest all girls do not have brothers. And these foreigners do not have any right to make a statement like, "Do I tell them about bargaining at the bazaar for beautiful saris costing a few dollars a piece, and not mention the men who stood watching us, who would push by us, clawing at our breasts and groins?"

Because these foreign girls are always ready to sleep with anyone. Have not you seen English movies?
This country, India, which was bold enough to write kamsutra, suddenly found this topic taboo and not to be talked about. And those who talk it are characterless though as a man, we have every right to take adavantage of crowded bus or a sleeping girl in train. We were always considered as a country with rich culture, which this girl describes as "Do I tell them about our first night in the city of Pune, when we danced in the Ganesha festival, and leave it at that? Or do I go on and tell them how the festival actually stopped when the American women started dancing, so that we looked around to see a circle of men filming our every move?"  Well, of course she is lying, she must have been wrongly dressed, they should learn form our sisters how to clothe. Only if our sisters have been given freedom to choose.

Thursday, August 15, 2013

Happy Independence day!

I wrote somewhere Happy Independence Day, people asked why Happy! Well, i have no answer so as to why independence day is happy. I am of the same generation as of the people  who asked why happy, so i wont say the filmy dialogue,"tumne abhi gulami ka dard nahi dekha hai, aazadi tumhe virasat me mili hai." Very well! I too, have not felt the pain and bound of foreign rule, so it will be lame to say that rhetorical answer. And may be the questioner wanted to underline the currant scenario where we are being ruled by politicians who are convicted of scams worth some lakhs crore rupees, or raping some innocent girl, or murdering an honest officer. May be the questioner is perturbed to see politicians who are majority crorepatis, do not even reflect before saying that 12 Rs is enough for a meal and then shamelessly defending. Or it may be the case that it is indeed sorry to see not a single MP of any political party do not even questioning the bill that increases the salary of MPs but the working hours of parliament is decreasing every year. Because they choose to disrupt the parliament rather than having serious talk on important bills that are going to shape the nation. While thinking to answer why this independence day should be happy, i pondered hard on present India because i do not want to take leverage of the great freedom struggle to convince people that this day is indeed happy. I wanted to think some good reason based on our present to say yes, it is happy, and it will be so. But while thinking, i kept on going deeper and deeper in all negative thoughts that would make us feel unhappy. So much of population, so much of poverty, so much of unemployment, lack of civil sense, so much of traffic, rising graph of crimes! Damn!

In despair, i intended not to answer him and be ignorant about the happiness quotient of the day in the same manner as we are ignorant about our local MLA, MPs. I logged on to facebook and the first post from my news feed was about one of my friends in Singapore who with some Indians there, was posing with tricolour. And, i found why we should be happy about independence day. Because we get to hold tricolour instead of Union jack. And if someone fails to appreciate this, there is no point in convincing. I remember, one of the first paintings, that we used to make in our childhood, was used to be tricolour. Orange, green sketch pens were first to dry in the new sketch pen set. Relish it. Cursing something is very easy.

Happy Independence day!




Sunday, August 11, 2013

I end up loving more!

Heart escaped a beat,
Tears rolled down,
Hands too weak,
To wipe them.

Lips dried,
Water Water it cries,
Legs refuse,
To stand up.

Its still dark outside,
it was occasional opening,
Of eyes, But now sleep,
Is miles away.

Birds chirping nearby,
Used to be soothing,
Now restlessness,
Irritating birds.

Days wont be same,
Neither will be night,
How hard i try,
I end up loving more.

Saturday, August 10, 2013

Good Days!

Every traffic signal has something interesting. Once a tempo walked over my foot, and the other time a tempo  just ahead of me collided with bus in a race after signal turned green. You can see small children selling flowers, which reminds you of people for whom you would have bought those flowers, then there are vendors selling soap bubble guns, for which i had fought with my brother, as his worked fine and mine failed to produce any. Then you see, people who are carrying jhola with vegetables and i remembered how i used to run to my father once he knocked on the door. He had a distinctive way of knocking, and we used to spill everything in the jhola looking for something free with daily used commodities. They used to give something free then, like i remember having a pencil box free with Milo. Then i saw a couple with 5 year old child on a bike. Signal turned green and his bike stopped as soon as he accelerated. With cars honking behind, he was embarrassed, and desperately trying to start bike. My bus raced past him but it just took me to days when the scooter of papa was like most interesting thing to me. I used to stand in front asking papa to press horn every now and then, those bajaj scooters had hard horn buttons which were not easy to be pressed. While in my village, when we were expecting papa to come, any passing by scooter's sound was enough to make us run from home to road. And without any sense of exhaustion, i used to run like 15 - 20 times, until maa failed to convince me that papa was coming. And it always happened that he used to come when i stopped running. Then it used to be a short drive to near by canal on scooter which used to give me happiness that i would not get even if i were to ride space shuttle. We have this scooter even now, and its just more than scooter, its memories of good days when i do not have to think good or bad, rich or poor. Good days!

Monday, July 15, 2013

As We Talk

As We Talk, this friend of mine, so obsessed with Dexter and House asks me weather i know the meaning of indulgence. If ever i had felt it the way he feels it. Quite interesting. I asked him, how do you define this term indulgence. He says indulgence is like getting lost and you don't want to be found. you just want to go more and more deep. Indulging more and more. I remembered this discussion.



It was raining on last friday. I just started when it started raining. It was not a heavy rain, so i decided to continue.Speed of bike and rain made a good IIT question and the result of the problem was that i got drenched completely. A cold breeze and i started shivering like anything. Yerwada Jail Road, yes the one who has Sanjay Dutt, has got some really nice big trees. And it looked so beautiful. The Banyan trees was in its full colours. Green leaves, aerial roots all magnified its beauty. I did not stop. It was quite a nice feeling. Shivering did not stop and i continued. I found a bridge on the way. I don't know it name yet. Wait! i will google it. Sorry, could not make it which one. What is in the name. So, the river was charming, colliding with waters under the background of black clouds. I stopped for a few minute. The vegetation on the bank of river was adding more charm to the already beautiful river. I hummed a song. All nice. Then came a road which was typically Indian. It had ditches. A vehicle passed by and i got the muddy water splashed on the newly bought trouser. Water sipped in shoes and another shiver. But it was not bad. I liked it. And i just waited for another ditch to get some more water without any second thoughts.


This was indulgence, i guess. I should ring my friend and ask for the confirmation though.





Thursday, June 13, 2013

खट्टी - मीठी लाइफ

मेनस्ट्रीम होने से बहुत डर लगता उसको। बाकी देखने में काफी मेनस्ट्रीम  था। गेंहुआ रंग, सामान्य कद-काठी, कोई विशेष आकर्षण नहीं। पर वो खुद को अलग मानता था। आत्मविश्वास था उसके अन्दर। दो पल बात करने से किसी को पता चल गए। पढाई में बहुत अच्छा नहीं था, ना ही खेल कूद में। पर उस आत्मविश्वास में कुछ बात थी, किसी को भी जल्दी जीत लेता था। ईशान था वो, मेरा दोस्त।

"कवि ....कवि .....कविता, कहाँ हो? "

रविश की पुकार से मैं जैसे नींद से जागी। आज सुबह से ही याद आ रही थी ईशान की।

"हाँ, मैं यहाँ बालकनी में।"

"कवि, आज रात में कंपनी की तरफ से पार्टी है। चल रही हो ना? "

"नहीं, तुम जाओं। मेरा सर भारी लग रहा है। वैसे भी तुम्हारी ऑफिस की पार्टियाँ मुझे बोर करती हैं।"

"ठीक है, जो तुम्हे ठीक लगे।"

बालों पर हाथ फेर  कर रविश चले गए। अब तो मुझे भी प्यार हो गया है रविश से। साथ रहते रहते तो पालतू जानवर से भी प्यार हो जाता है और फिर रविश तो कितने अच्छे है। जब माँ ने मेरी शादी के लिए रविश को ढूंढा था, मेरे लिए तो बस एक अरेंजमेंट था आगे की जिंदगी बिताने के लिए। पर रविश ने भी मेरा दिल जीत लिया।  जिंदगी इतनी भी बुरी नहीं होती। रविश का फोटो देख मैं मुस्कुरा उठी।

कल बर्थडे हैं ईशान  का। दोस्त था मेरा। अजीब था। फोटो खीचने का शौक था, पर खिचवाने का नहीं। बर्थडे पर गिफ्ट देने का शौक था, पर अपने जन्मदिन पर बधाइयाँ लेने का नहीं। किसी पर विस्वास नहीं करना था, पर दुसरो का विस्वास न तोड़ने का। अलग ही दुनिया थी, उसी में परेशान  रहता था, उसी में खुश रहता था।

जैसा भी था, अच्छा दोस्त था मेरा। कॉलेज में मुझे कभी कोई दिक्कत नहीं होने का बीड़ा उठाया था। सब कुछ अपने ही सर लेना चाहता था। वो भी दिन थे! दुनिया की सारी  अजीब बातें मैंने उसी के साथ पहले की।

मोबाइल की  घंटी बजी। बेटे का फ़ोन था, कह रहा था की आयरलैंड के ट्रिप की फोटो मेल कर रहा हैं। फोटो अच्छी आई है।

आयरलैंड तो मैं पिछले महीने गयी थी . पर मैं और इशान तो कॉलेज में ही  सपनो में पूरी  दुनिया घूम के आ चुके थे। खयालो में ही हमने स्कॉटलैंड में अर्चेरी सीखी और न्यूजीलैंड में बंजी जंपिंग भी की।

ही वाज़ फॅमिली।

रात में दूर शहर की लाइट देखना पसंद था हम दोनों को। गुलमोहर के पेड़ के नीचे वाली बेंच पर बैठ कर हमने दुनिया भर की बातें की। जिंदगी में पैसो की अहमियत से लेकर घर, आस-पड़ोस सब की बातें की। कहानियों का पिटारा था वो। था भी तो वैसा ही, लोग बातों ही बातों में अपनी दिल में छुपायें राज़ उसके सामने खोल देते थे और वो बस हाँ- हाँ करते हुए चुप चाप उनकी बातों को सुन लिया करता था। दुनिया के सामने बड़ा शरीफ बनता था पर मेरे सामने तो जैसे वो अपने बस में ही नहीं था। कुछ भी बोलना था बस। सॉरी भी बुलवाना पड़ता था उस से।

कॉलेज के दिनों से ही ईशान को कृति पसंद थी। घंटो बैठ कर हमने उसको पटाने के प्लान बनाये। राह चलते अगर मुझे कृति  दिखती थी, तो मैं ईशान को मेसेज कर देती थी, और वो उन दोनों की मुलाकात जो एक्सीडेंटल लगती थी, वास्तव में प्लांड होती थी। दिन बीतते गए और धीरे धीरे कृति और ईशान की दोस्ती बढती गयी। और एक दिन वो भी आया, जब दोनों कॉलेज के नामी कपल बन गए। मुझे लगा अब मेरे बैकग्राउंड में जाने का टाइम आ गया। 

लेकिन  नहीं, नहीं मैं कही बैकग्राउंड में नहीं गयी। ईशान  था वो। अभी भी हम पहले जितने  ही करीब थे, उतनी ही बातें करते थे, उतना ही ध्यान रखता था वो मेरा । कभी कभी लगता था कृति को देख कर कैसी लड़की है, क्यूँ इतना बात करने देती है ईशान  को। उसे शायद पता था, ईशान को बांध कर नहीं जीत सकते। जैसा ईशान, वैसी कृति। मेरी फॅमिली बड़ी हो गयी। मैं खुश थी। हँसी- ख़ुशी में दिन कट रहे थे। डोमिनोज का पिज़्ज़ा एसी में खाने में उतना टेस्टी नहीं लगता जितना रोड के किनारे फुटपाथ पर। शाम और खूबसूरत हो भी नहीं सकती थी।

धीरे-धीरे वो भी दिन आया, जब हमारा कॉलेज में आखिरी दिन था। मैं उस दिन को याद करना नहीं चाहती, और वो दिन है की, मैं कभी भूलती ही नहीं। कृति को एअरपोर्ट पर छोड़ कर हम वापस कॉलेज आये। उसी गुलमोहर के पेड़ के नीचे वाली बेंच पर बैठे। पर आज तो शांति थी। काट रही थी। ना मैं कुछ बोल पा रही थी ना वो। हम दोनों को नहीं पता था की आगे क्या होगा। फिजूल के वादे वो नहीं करता था, मैं चाहती भी नहीं थी। घबराया था वो, मैंने उसका हाथ पकड़ा और बोला, जो होगा देखा जायेगा, फिकर नॉट।उसने मुझे कंधे पर सुलाया और बोला, "बच्चा, मजा आ गया था आयरलैंड में! स्पेन चले क्या?"
और हम दोनों खिलखिला कर हस पड़े।

घर की जिम्मेदारी और करियर को लेकर ईशान गंभीर हो गया। वो डायलाग था ना रंग दे बसंती में, "कॉलेज के अन्दर हम ज़िन्दगी को नचाते  है, और कॉलेज के बहार जिंदगी हमें नचाती है हैं। " बात अभी भी होती थी हमारी, पर कुछ ज्यादा ही आगे बढ़ने की धुन सवार थी उसके अन्दर। पर हाँ, उसकी बातों में अभी भी उतना ही कंसर्न था, जितना पहले होता था। कृति अभी भी उसके साथ थी। कभी कभी सोचती जरूर थी, क्या अगर ईशान मेरे साथ होता, तो लाइफ कैसी होती। अब रोज़ बात तो नहीं होती थी, लेकिन हर सन्डे शाम उसका फ़ोन बिना भूले आता था।और हाँ, हर सुबह एक मेसेज भी आता था,"यू  लुक ब्यूटीफुल।" अब तो ये अघोषित नियम सा हो गया। धीरे धीरे उसने अपनी सारी  जिम्मेदारी निभा ली। बहन की शादी कर दी। 

एक वो भी सन्डे था, जिस दिन वो मुझसे पूछा,"बच्चा, कृति से शादी कर लूँ या तुझसे करूँ ?" और फिर उसकी मदमस्त हँसी। 
क्या बोलती मैं। दो पल सोचा और बोली," तू दोस्त ही अच्छा है, मुझसे शादी कर लेगा तो कृति की शिकायत किस से करेगा।" 

वो फिर पूछा,"कवि, प्यार का मतलब सिर्फ शादी है क्या?"

मैं बोली,"क्या हुआ बच्चा?"

वो बोला,"बता ना! प्यार का मतलब शादी और फिर बच्चे पैदा करने तक सीमित है?"

मैं झिझक गयी। बड़ी बात पूछ दी ईशान  ने। आज तक तो यही डेफिनेसन थी, आम लोग तो यही जानते समझते है। 
मैं पूछी, "किस बात का डर  लग रहा है मेरे ईशान  को?"

"डर  लगता हैं, खो दूंगा अपनी कवि को" रुंधे गले से आवाज़ आई।

पता नहीं क्यों मेरे गले से आवाज़ ही नहीं निकल पाई। और दो बूँद आखों से छलक गया। 
"ईशान !" इतना ही बोल पाई।

"यहाँ क्यूँ नहीं है तू कवि" ईशान बोला और बच्चे की तरह सुबक सुबक कर रोने लगा।

"अपनी कवि  पर इतना ही विश्वास है तुझे!" मैं बोली और लगा की जैसे बेटी के विदाई का वक़्त हो चला है।

"कवि , मैंने तेरे साथ बहुत गलत किया।"

"ईशान, तू हर बात को अपनी गलती क्यूँ मानता है?मैंने तेरे साथ रहने के कोई सपने नहीं देखे थे। तुझे ऐसा क्यूँ लगता है, तू मेरा दोस्त है ना?"

"हूँ "

"फिर तू  बता तूने क्या गलती की? मैं कही नहीं जा रही। तू भी कही नहीं जा रहा।" मैंने किसी तरह खुद को समेटते हुए बोली।

"कवि , आई लव यु सो मच ! " रूंधे गले से ईशान बोला।

"कुछ नया बोल। " मैं बोली और वो शायद मुस्कुराया।

"आई लव यु टू"

"पेरिस, चले क्या ?" और हम खिलखिला कर हँस दिए।

-------------धारावाहिक  का अंतिम अंक---------------------------------

रविश चले गए  पार्टी में। बालकनी में खड़े हो कर उनकी जाती कार को देखना अब एक रिवाज़ सा बन गया था। और रविश भी कभी हाथ हिला कर बाय कहना नहीं भूलते। मैं खुद में खोयी हुयी राह चलते लोगों को देख रही हूँ . सब आम लोग है। साधारण। लेकिन सब की एक खुद की गज़ब की कहानी है। बिलकुल विशिष्ट।

वो तेज़ कदमो से जाती हुयी लड़की को देखो। कहाँ जा रही होगी? शायद दोस्तों के संग मस्ती करने, या फिर काम करने। और वो देखो पानीपूरी वाले को। ईशान  कहता था कि  पानीपूरी वाला सबसे आमिर इंसान है, बड़े बड़े लोग कार से उतर कर हाथ जोड़ कर पानीपूरी वाले के सामने खड़े हो जाते है। कुछ भी बोलता था ईशान। अरे, वो कौन है, हाथ में डोमिनोज का पिज़्ज़ा ले कर जा रहा है, कद काठी तो बिलकुल ईशान  जैसी है। मैं तो बस अपने ख्वाब में ही थी जैसे। कोई और था, वैसे भी ईशान  की कद काठी ऐसी कॉलेज में थी। अब तो मोटा हो गया है। वो जैसे माँ के ४० साल का बच्चा भी छोटा होता है न, वैसे ही मेरे मन में भी ईशान की छवि कॉलेज वाली ही थी।


मैं तो जैसे आज यादों  के सागर में गोता लगा रही थी। बीप की आवाज़ से मोबाइल बजा। मेसेज है किसी का। भेजने वाले का नाम देख कर दिल धक् से रह गया। ईशान  था, पूछ  रहा था, "कवि, खाना खा ली?" वैसे ही जैसे वो कॉलेज में पूछा करता था, कुछ नहीं बदला। मेरी मुस्कराहट ज़रा चौड़ी  हो गयी। कहता था ईशान, "फिकर नॉट, कुछ नहीं बदलेगा।"

 मैंने रिप्लाई किया , "नहीं"

जल्द ही एक और मेसेज आया, "कवि, ज़रा दरवाज़ा खोल न"

मैं भागी भागी दरवाज़ा खोलने को दौड़ी। ये लो, सामने खड़ा था ईशान, हाथ में डोमिनोज का बड़ा सा थैला लिए हुए।

"तू बिलीव नहीं करेगा, मैंने तुझे आज कितना याद किया!"

"झूठी"

"अरे,झूठी क्यों"

"याद करने वाले फ़ोन करते है, मेसेज करते है। ये वाला "याद" काउंट नहीं होगा।

"अच्छा बाबा! तू दिल्ली कब आया। और आने से पहले बताया क्यूँ नहीं"

"वो क्या है न कवि, दिल से दिल का कनेक्शन। तुमने बुलाया और हम चले आये।" और ईशान  खिलखिलाया।

फिर वो आगे बोला, "बस १ घंटे पहले लैंड किया, पिज़्ज़ा लिया और सीधे तेरे घर। रविश सर कहाँ है, मुझे तो लगा था की अब वापस आ गए होंगे ऑफिस से। आज कल कुछ ज्यादा ही नोट छाप रहे है क्या?"

"उनकी कंपनी की पार्टी है, मेरा मन नहीं था तो मैं नहीं गयी।"

"अरे मैंने तो लार्ज पिज़्ज़ा ले लिया था, सोचा था की तीनो मजे से खायेंगे। चल छत  पर, बहुत जोरो की भूख लगी है।"

मैंने फ्रिज से एक बोतल पानी लिया और हम पहुँच गए छत पर।

"अच्छा, कृति नहीं आई?  और तू उस से क्यूँ लड़ता है इतना। तुझे पता भी है कितना परेशान  हो जाती है वो!"

" कवि , वो लड़ाई से न प्यार बढ़ता है इसलिए। नहीं, उसकी माँ आई है तो वो वही रुक गयी। इतने सालो में कोई भी मेरी लड़ाई छिपी है क्या तुमसे, वैसे भी तू उसकी पार्टी में क्यूँ रहती है हमेशा। तू मेरी दोस्त है उसकी ।"

"कृति तो कहती है कवि  तू ही सम्हाल इसे, मेरे हाथ मनाही है तेरा दोस्त।"

और हम दोनों खिलखिला कर हँस पड़े। बातें करते हुए टाइम निकलता ही गया। रात १० बजे मीटिंग थी उसकी  और सुबह की वापस फ्लाइट।

जाने का वक़्त हो गया।

ईशान  ने पॉकेट से एक लिफ़ाफा निकला। लिफ़ाफा मेरी तरफ बढ़ाते हुए बोला,"कवि, तेरे लिए कुछ बाज़ार में तो मिलता नहीं, ये रख ले।"

मैंने लिफ़ाफा खोल कर देखा, एक सुखा हुआ गालब था अन्दर।

सच में, कुछ भी नहीं बदला।

-------------------------------------समाप्त ------------------------------------------------------


खट्टी - मीठी लाइफ-3

-------------धारावाहिक  का अंतिम अंक---------------------------------

रविश चले गए  पार्टी में। बालकनी में खड़े हो कर उनकी जाती कार को देखना अब एक रिवाज़ सा बन गया था। और रविश भी कभी हाथ हिला कर बाय कहना नहीं भूलते। मैं खुद में खोयी हुयी राह चलते लोगों को देख रही हूँ . सब आम लोग है। साधारण। लेकिन सब की एक खुद की गज़ब की कहानी है। बिलकुल विशिष्ट।

वो तेज़ कदमो से जाती हुयी लड़की को देखो। कहाँ जा रही होगी? शायद दोस्तों के संग मस्ती करने, या फिर काम करने। और वो देखो पानीपूरी वाले को। ईशान  कहता था कि  पानीपूरी वाला सबसे आमिर इंसान है, बड़े बड़े लोग कार से उतर कर हाथ जोड़ कर पानीपूरी वाले के सामने खड़े हो जाते है। कुछ भी बोलता था ईशान। अरे, वो कौन है, हाथ में डोमिनोज का पिज़्ज़ा ले कर जा रहा है, कद काठी तो बिलकुल ईशान  जैसी है। मैं तो बस अपने ख्वाब में ही थी जैसे। कोई और था, वैसे भी ईशान  की कद काठी ऐसी कॉलेज में थी। अब तो मोटा हो गया है। वो जैसे माँ के ४० साल का बच्चा भी छोटा होता है न, वैसे ही मेरे मन में भी ईशान की छवि कॉलेज वाली ही थी।


मैं तो जैसे आज यादों  के सागर में गोता लगा रही थी। बीप की आवाज़ से मोबाइल बजा। मेसेज है किसी का। भेजने वाले का नाम देख कर दिल धक् से रह गया। ईशान  था, पूछ  रहा था, "कवि, खाना खा ली?" वैसे ही जैसे वो कॉलेज में पूछा करता था, कुछ नहीं बदला। मेरी मुस्कराहट ज़रा चौड़ी  हो गयी। कहता था ईशान, "फिकर नॉट, कुछ नहीं बदलेगा।"

 मैंने रिप्लाई किया , "नहीं"

जल्द ही एक और मेसेज आया, "कवि, ज़रा दरवाज़ा खोल न"

मैं भागी भागी दरवाज़ा खोलने को दौड़ी। ये लो, सामने खड़ा था ईशान, हाथ में डोमिनोज का बड़ा सा थैला लिए हुए।

"तू बिलीव नहीं करेगा, मैंने तुझे आज कितना याद किया!"

"झूठी"

"अरे,झूठी क्यों"

"याद करने वाले फ़ोन करते है, मेसेज करते है। ये वाला "याद" काउंट नहीं होगा।

"अच्छा बाबा! तू दिल्ली कब आया। और आने से पहले बताया क्यूँ नहीं"

"वो क्या है न कवि, दिल से दिल का कनेक्शन। तुमने बुलाया और हम चले आये।" और ईशान  खिलखिलाया।

फिर वो आगे बोला, "बस १ घंटे पहले लैंड किया, पिज़्ज़ा लिया और सीधे तेरे घर। रविश सर कहाँ है, मुझे तो लगा था की अब वापस आ गए होंगे ऑफिस से। आज कल कुछ ज्यादा ही नोट छाप रहे है क्या?"

"उनकी कंपनी की पार्टी है, मेरा मन नहीं था तो मैं नहीं गयी।"

"अरे मैंने तो लार्ज पिज़्ज़ा ले लिया था, सोचा था की तीनो मजे से खायेंगे। चल छत  पर, बहुत जोरो की भूख लगी है।"

मैंने फ्रिज से एक बोतल पानी लिया और हम पहुँच गए छत पर।

"अच्छा, कृति नहीं आई?  और तू उस से क्यूँ लड़ता है इतना। तुझे पता भी है कितना परेशान  हो जाती है वो!"

" कवि , वो लड़ाई से न प्यार बढ़ता है इसलिए। नहीं, उसकी माँ आई है तो वो वही रुक गयी। इतने सालो में कोई भी मेरी लड़ाई छिपी है क्या तुमसे, वैसे भी तू उसकी पार्टी में क्यूँ रहती है हमेशा। तू मेरी दोस्त है उसकी ।"

"कृति तो कहती है कवि  तू ही सम्हाल इसे, मेरे हाथ मनाही है तेरा दोस्त।"

और हम दोनों खिलखिला कर हँस पड़े। बातें करते हुए टाइम निकलता ही गया। रात १० बजे मीटिंग थी उसकी  और सुबह की वापस फ्लाइट।

जाने का वक़्त हो गया।

ईशान  ने पॉकेट से एक लिफ़ाफा निकला। लिफ़ाफा मेरी तरफ बढ़ाते हुए बोला,"कवि, तेरे लिए कुछ बाज़ार में तो मिलता नहीं, ये रख ले।"

मैंने लिफ़ाफा खोल कर देखा, एक सुखा हुआ गालब था अन्दर।

सच में, कुछ भी नहीं बदला।

-------------------------------------समाप्त ------------------------------------------------------







Saturday, June 1, 2013

खट्टी-मीठी जिंदगी-२

कॉलेज के दिनों से ही ईशान को कृति पसंद थी। घंटो बैठ कर हमने उसको पटाने के प्लान बनाये। राह चलते अगर मुझे कृति  दिखती थी, तो मैं ईशान को मेसेज कर देती थी, और वो उन दोनों की मुलाकात जो एक्सीडेंटल लगती थी, वास्तव में प्लांड होती थी। दिन बीतते गए और धीरे धीरे कृति और ईशान की दोस्ती बढती गयी। और एक दिन वो भी आया, जब दोनों कॉलेज के नामी कपल बन गए। मुझे लगा अब मेरे बैकग्राउंड में जाने का टाइम आ गया। 

लेकिन  नहीं, नहीं मैं कही बैकग्राउंड में नहीं गयी। ईशान  था वो। अभी भी हम पहले जितने  ही करीब थे, उतनी ही बातें करते थे, उतना ही ध्यान रखता था वो मेरा । कभी कभी लगता था कृति को देख कर कैसी लड़की है, क्यूँ इतना बात करने देती है ईशान  को। उसे शायद पता था, ईशान को बांध कर नहीं जीत सकते। जैसा ईशान, वैसी कृति। मेरी फॅमिली बड़ी हो गयी। मैं खुश थी। हँसी- ख़ुशी में दिन कट रहे थे। डोमिनोज का पिज़्ज़ा एसी में खाने में उतना टेस्टी नहीं लगता जितना रोड के किनारे फुटपाथ पर। शाम और खूबसूरत हो भी नहीं सकती थी।

धीरे-धीरे वो भी दिन आया, जब हमारा कॉलेज में आखिरी दिन था। मैं उस दिन को याद करना नहीं चाहती, और वो दिन है की, मैं कभी भूलती ही नहीं। कृति को एअरपोर्ट पर छोड़ कर हम वापस कॉलेज आये। उसी गुलमोहर के पेड़ के नीचे वाली बेंच पर बैठे। पर आज तो शांति थी। काट रही थी। ना मैं कुछ बोल पा रही थी ना वो। हम दोनों को नहीं पता था की आगे क्या होगा। फिजूल के वादे वो नहीं करता था, मैं चाहती भी नहीं थी। घबराया था वो, मैंने उसका हाथ पकड़ा और बोला, जो होगा देखा जायेगा, फिकर नॉट।उसने मुझे कंधे पर सुलाया और बोला, "बच्चा, मजा आ गया था आयरलैंड में! स्पेन चले क्या?"
और हम दोनों खिलखिला कर हस पड़े।

घर की जिम्मेदारी और करियर को लेकर ईशान गंभीर हो गया। वो डायलाग था ना रंग दे बसंती में, "कॉलेज के अन्दर हम ज़िन्दगी को नचाते  है, और कॉलेज के बहार जिंदगी हमें नचाती है हैं। " बात अभी भी होती थी हमारी, पर कुछ ज्यादा ही आगे बढ़ने की धुन सवार थी उसके अन्दर। पर हाँ, उसकी बातों में अभी भी उतना ही कंसर्न था, जितना पहले होता था। कृति अभी भी उसके साथ थी। कभी कभी सोचती जरूर थी, क्या अगर ईशान मेरे साथ होता, तो लाइफ कैसी होती। अब रोज़ बात तो नहीं होती थी, लेकिन हर सन्डे शाम उसका फ़ोन बिना भूले आता था।और हाँ, हर सुबह एक मेसेज भी आता था,"यू  लुक ब्यूटीफुल।" अब तो ये अघोषित नियम सा हो गया। धीरे धीरे उसने अपनी सारी  जिम्मेदारी निभा ली। बहन की शादी कर दी। 

एक वो भी सन्डे था, जिस दिन वो मुझसे पूछा,"बच्चा, कृति से शादी कर लूँ या तुझसे करूँ ?" और फिर उसकी मदमस्त हँसी। 
क्या बोलती मैं। दो पल सोचा और बोली," तू दोस्त ही अच्छा है, मुझसे शादी कर लेगा तो कृति की शिकायत किस से करेगा।" 

वो फिर पूछा,"कवि, प्यार का मतलब सिर्फ शादी है क्या?"

मैं बोली,"क्या हुआ बच्चा?"

वो बोला,"बता ना! प्यार का मतलब शादी और फिर बच्चे पैदा करने तक सीमित है?"

मैं झिझक गयी। बड़ी बात पूछ दी ईशान  ने। आज तक तो यही डेफिनेसन थी, आम लोग तो यही जानते समझते है। 
मैं पूछी, "किस बात का डर  लग रहा है मेरे ईशान  को?"

"डर  लगता हैं, खो दूंगा अपनी कवि को" रुंधे गले से आवाज़ आई।

पता नहीं क्यों मेरे गले से आवाज़ ही नहीं निकल पाई। और दो बूँद आखों से छलक गया। 
"ईशान !" इतना ही बोल पाई।

"यहाँ क्यूँ नहीं है तू कवि" ईशान बोला और बच्चे की तरह सुबक सुबक कर रोने लगा।

"अपनी कवि  पर इतना ही विश्वास है तुझे!" मैं बोली और लगा की जैसे बेटी के विदाई का वक़्त हो चला है।

"कवि , मैंने तेरे साथ बहुत गलत किया।"

"ईशान, तू हर बात को अपनी गलती क्यूँ मानता है?मैंने तेरे साथ रहने के कोई सपने नहीं देखे थे। तुझे ऐसा क्यूँ लगता है, तू मेरा दोस्त है ना?"

"हूँ "

"फिर तू  बता तूने क्या गलती की? मैं कही नहीं जा रही। तू भी कही नहीं जा रहा।" मैंने किसी तरह खुद को समेटते हुए बोली।

"कवि , आई लव यु सो मच ! " रूंधे गले से ईशान बोला।

"कुछ नया बोल। " मैं बोली और वो शायद मुस्कुराया।

"आई लव यु टू"

"पेरिस, चले क्या ?" और हम खिलखिला कर हँस दिए।

.-------कहानी अभी बाकि है मेरे दोस्त, शेष अगले पोस्ट में




Friday, May 31, 2013

खट्टी - मीठी लाइफ-१

मेनस्ट्रीम होने से बहुत डर लगता उसको। बाकी देखने में काफी मेनस्ट्रीम  था। गेंहुआ रंग, सामान्य कद-काठी, कोई विशेष आकर्षण नहीं। पर वो खुद को अलग मानता था। आत्मविश्वास था उसके अन्दर। दो पल बात करने से किसी को पता चल गए। पढाई में बहुत अच्छा नहीं था, ना ही खेल कूद में। पर उस आत्मविश्वास में कुछ बात थी, किसी को भी जल्दी जीत लेता था। ईशान था वो, मेरा दोस्त।

"कवि ....कवि .....कविता, कहाँ हो? "

रविश की पुकार से मैं जैसे नींद से जागी। आज सुबह से ही याद आ रही थी ईशान की।

"हाँ, मैं यहाँ बालकनी में।"

"कवि, आज रात में कंपनी की तरफ से पार्टी है। चल रही हो ना? "

"नहीं, तुम जाओं। मेरा सर भारी लग रहा है। वैसे भी तुम्हारी ऑफिस की पार्टियाँ मुझे बोर करती हैं।"

"ठीक है, जो तुम्हे ठीक लगे।"

बालों पर हाथ फेर  कर रविश चले गए। अब तो मुझे भी प्यार हो गया है रविश से। साथ रहते रहते तो पालतू जानवर से भी प्यार हो जाता है और फिर रविश तो कितने अच्छे है। जब माँ ने मेरी शादी के लिए रविश को ढूंढा था, मेरे लिए तो बस एक अरेंजमेंट था आगे की जिंदगी बिताने के लिए। पर रविश ने भी मेरा दिल जीत लिया।  जिंदगी इतनी भी बुरी नहीं होती। रविश का फोटो देख मैं मुस्कुरा उठी।

कल बर्थडे हैं ईशान  का। दोस्त था मेरा। अजीब था। फोटो खीचने का शौक था, पर खिचवाने का नहीं। बर्थडे पर गिफ्ट देने का शौक था, पर अपने जन्मदिन पर बधाइयाँ लेने का नहीं। किसी पर विस्वास नहीं करना था, पर दुसरो का विस्वास न तोड़ने का। अलग ही दुनिया थी, उसी में परेशान  रहता था, उसी में खुश रहता था।

जैसा भी था, अच्छा दोस्त था मेरा। कॉलेज में मुझे कभी कोई दिक्कत नहीं होने का बीड़ा उठाया था। सब कुछ अपने ही सर लेना चाहता था। वो भी दिन थे! दुनिया की सारी  अजीब बातें मैंने उसी के साथ पहले की।

मोबाइल की  घंटी बजी। बेटे का फ़ोन था, कह रहा था की आयरलैंड के ट्रिप की फोटो मेल कर रहा हैं। फोटो अच्छी आई है।

आयरलैंड तो मैं पिछले महीने गयी थी . पर मैं और इशान तो कॉलेज में ही  सपनो में पूरी  दुनिया घूम के आ चुके थे। खयालो में ही हमने स्कॉटलैंड में अर्चेरी सीखी और न्यूजीलैंड में बंजी जंपिंग भी की।

ही वाज़ फॅमिली।

रात में दूर शहर की लाइट देखना पसंद था हम दोनों को। गुलमोहर के पेड़ के नीचे वाली बेंच पर बैठ कर हमने दुनिया भर की बातें की। जिंदगी में पैसो की अहमियत से लेकर घर, आस-पड़ोस सब की बातें की। कहानियों का पिटारा था वो। था भी तो वैसा ही, लोग बातों ही बातों में अपनी दिल में छुपायें राज़ उसके सामने खोल देते थे और वो बस हाँ- हाँ करते हुए चुप चाप उनकी बातों को सुन लिया करता था। दुनिया के सामने बड़ा शरीफ बनता था पर मेरे सामने तो जैसे वो अपने बस में ही नहीं था। कुछ भी बोलना था बस। सॉरी भी बुलवाना पड़ता था उस से।

---------------------- शेष अगले पोस्ट में











Saturday, May 4, 2013

And you will be celebrated.


Days are miserable. It will be, It should be. 

How we love? We love when we are loved. 

We learn to love when we are shown ,

how it feels to be loved, to be special. 

You can be superman,

 when you are just another common man. 

Because there are  people,

who will see great powers in you 

which you can not see. May be there is no power within you. 

But then these people have faith and trust, 

which will give you power to achieve the heights. 

i have been shown this love. 

Now when you are not around, 

i have lost my power. 

Miserable; it feels, without you. 

love me for some more days and then just go. 

Go. Go. I want to live. 

Don't fascinate me with your infinite beauty.

 I feel alone without you. 

Because i want my friends to be like you 

which obviously they can not be. 

Do not remember me, when you go. 

i will be happy. You be too.

And you will be celebrated.


Tuesday, April 30, 2013

14 days more to go home

14 days more to go home.

My dearest Feynmann asked, rather requested (show off!! I know, still less for boastful Feynmann), me to write something like good old days when i used to write crap in my tatti  english. But when i read them today, it was like roaming in your old city where you used to live once upon a time. Many things have changed over the days, Tom and i do not talk much now. He is not my neighbor now. All other people, Faghav , Jadu, Midass have many changes. Topics of talk have changed. IPL is not that cool now, common room have bigger TVs, no more this girl- that girl, (Ok! no need to comment about me :P ). Midass has reached pinnacle of his stardom in recent days with so many of his mumbai wali, pilani wali. Midass has always been a source of inspiration for me. When i came here four years ago, i did not imagine that there can be some place with people speaking English where i would go. That was me, happy with being good student with a handsome marksheet of class tenth and twelfth. And in my first journey with 3 fellow BITSian, Vinayak told me to speak in English as he did not Hindi. I was more bad than i am today. You know, you do not always need greats like Gandhi and Mandela to inspire you. Sometimes, you find inspiration just in the guy next door.  Midass showed me how to speak English. Over the time, Feynmann continues to complain me of being stubborn. Everyone in this world has been brought up in difficulties, which comes in different shades like rainbow. Slim Shady always complains that he is a single child. He always wants a brother and sister so that he could have a good company to spend time rather than watching FTV  at the age of  7 when his parents were out for work. Faghav has always a longing to be recognised as an artist. I will not be surprised if, given a chance, he will trade any precious thing he owns for the recognisation as an artist. When i go home now, i see teachers who are incapable even for secondary school board exams, i see 16 hours power cut with hot and humid night difficult to pass. Perhaps, this stubbornness was needed. There are moments when you see your future at bleak, just because you passed through some bad day. You know, go to Chintu's room and you will learn how you should just let time decide for you :P Yes, It may feel as doing nothing and just allowing time to decide everything is bit too much. Ok! then worry but i learnt from Chintu two things. Firstly, Habib's hair cut is extraordinary because you pay 500 bucks to let people find out where the mighty Habib has cut hair and second, leave something for time. You are no God and you can not control everything. I liked many cool things as hobby  because they are cool. Playing guitar, angrezi gane, table tennis, but i found out i lack passion for them. If ever i feel passion for something, i look for Bob. (Feynmann used to say he was mad about physics and he would not take second degree. But he took CS. ) Bob shows amazing devotion for the things he loves. And if you think you have passion for learning guitar, until and unless you have got passion like Bob, you can't learn. Buy a guitar, it is really cool to show off in train. i did it once. Yes, Nawaz's guitar is decorated on cyan colored wall with "College Days!"   written in  Lucinda Calligraphy font. Though Nawaz has distinct ability that he can make me talk when no one else can. By the way, don't sleep keeping your door open, Nawaz is searching for brand new eye balls. Though, he has fully functional ears as his phone is busy all the time. Nawaz takes me to Prathmesh. You know what, if you get refused for help from everywhere in this world, go to this genius who can study one night and get handsome marks. This studying one night, reminds me of Rastogi. He claims that he is cool but you must meet him a night before exam. These days he uses stress busters  but back in those days when we were still kids i remember him of studying all night with red eyes and after exam, he will be the one making fun of everyone. Going in flow, i must not Slim Shady, who can top any subject which has answer key of text book. Tom has always been my good neighbor as he used to wake me up  with his really amazing playlist. I remember there was a time when i always used to wake up with dope sope  and on the particular note of the songe  main  sufiyon da raja... Can you leave compre paper just because you were too bored in writing answer? Pranav can do that. He goes to every class, knows everything but sometimes he is just too bored to write anything.
This post is incoherent and very random. Still one for Feynmann. :)

Saturday, March 30, 2013

सबने मुखौटा पहना है।


पता नहीं रात के कितने बजे थे। अँधेरा अभी भी था। आस पास हाथ टटोला। अपना फ़ोन धुंद रहा था मैं। मिल गया, तकिये के नीचे था। नोटीफीकेशन चेक किया।
 १ मेसेज रिसीवड!
एल सी डी की तेज़ रोशिनी से आँखे छोटी हो गयी। मेसेज में बस मेरा नाम था। किसका मेसेज था, ये देखने की जरूरत ही नहीं थी। अलग ही मज़ा है, ये मेसेज पढने का। नींद में बरबस ही हाथो ने हरकत की, उंगलियों को अपना रास्ता पता था। हरे रंग का एक मात्र बटन दबाते ही उसकी निन्दियाई अलसाई “हेल्लो” सुन ने को मन उतावला हो गया।
मेरी आँखे बंद थी। कानो में घंटी की आवाज़ जा रही थी। पूरी घंटी बाज़ गयी; उस ने फ़ोन नहीं उठाया। आधी नींद नशे  की तरह होती है। ज्यादा बुरा नहीं लगता। फ़ोन कब  हाथ से छुट कर बिस्तर पर गिरा, पता ही नहीं चला। 
टिंग की आवाज़ के साथ नींद खुली।
मैंने मेसेज खोला। 
“विल यू रेमेम्बेर मी आलवेज़  लाइक दिस?”
मेरा जवाब था- “परहेप्स, कल किसने देखा”
इसके बाद मैं फिर एक बार नींद के सागर में खो गया। सुबह हुयी। नींद खुली। याद आया आज कितने काम है। ये मीटिंग, वो मीटिंग, रास्ते का ट्रैफिक जाम, भारत में भ्रस्टाचार, बढती मंहगाई, क्रिकेट में भारत की हार। और इन सबके बीच मेरे पैसे कमाने की दौड़।   तभी अचानक से रात की मासूमियत  और कोमलता याद आ गयी। क्या हर दिन रोज़मर्रा का काम उस कोमलता से होगा? ऑफिस पहुंचा। अपनी टीम को बुलाया। प्रोजेक्ट की प्रगति के बारे में पूछा। असंतुष्ट हुआ, सब पर चिल्लाया। मेरे ऊपर वाले मुझ पर चिल्लाते है। क्या यहाँ मासूमियत और कोमलता से काम बनेगी? शायद नहीं। मुखौटा लगाना पड़ता हैं। लोग बुरे नहीं होते। सबने मुखौटा पहना है।

Thursday, March 28, 2013

बुरा न मानो होली है!!!


माँ का फ़ोन आया था। कह रही थी, नए कपडे खरीद लेना; कल होली जो है। आज ऑफिस से वापस आने में लेट हो गया। महीने के अंत में काम ज्यादा होता है। ८ से ८ ऑफिस में बिताने के बाद मैं ऑफिस के कोनों को घर से ज्यादा अच्छी तरह पहचानता हूँ। घर तो बस रात में सोने आता हूँ। अच्छा होता अगर कंपनी वाले ऑफिस में ही एक बिस्तर दे देते। खैर अब खुद को कोसने से क्या होगा। महीने के अंत में अच्छे-खासे पैसे तो आते है। पापा खुशरहते है – ,”बेटा एम०एन०सी में काम करता है, ७ अंको में सैलरी मिलती है। जब भी वापस घर जाने की बात सोचता हूँ, दोस्त बोलते है,”वापस जा कर क्या करेगा! बैंगलोर में लाइफ है। वहां तेरे लेवल के लोग नहीं मिलेंगे। ये नहीं होगा …..वो नहीं होगा …..फलाना ठिकाना” 
चलो मान लिया। लाइफ मतलब शायद १ घंटे काम करना होता है और उसके बाद २ घंटे गाड़ियों के धुओं में घुटना होता है। कल होली है, और मैं पूरा दिन सो कर बिताऊंगा। रात में शायद किसी रेस्तरां में जा कर ओवर प्रआइसड खाना खाऊंगा। दुनिया को गाली दुँगा और फिर गले दिन से वही रूटीन। साथ में काम करने वालो को बोलूँगा,”फलाना फाइव स्टार होटल में डिनर किया। यही लाइफ है भाई। हो सकता है बाज़ार से सबसे महंगा “हर्बल गुलाल” खरीद लूँ और जितना बड़ा टीका पंडित जी लगाते है, उतना ही गुलाल दोस्तों को लगा कर फोटो खिचवा लूँ। अगले दिन फेसबुक पर ,”फन विद फ्रेंड्स” या “मस्ती इन होली” एट मैरीयट डाल कर खुश हो जाऊ। यही लाइफ है।
कल  होली है। सुबह मैं ३ हज़ार का शर्ट पहन कर बाज़ार घूम आया। क्या मजाल था जो हमारे बचपन के दिनों में कोई साफ़ सुथरा शर्ट पहन कर घूम आये। माँ १ सप्ताह पहले से ही पुराने कपडे पहनाने लगती थी। न जाने किस छत से बाल्टी भर रंग आपके ऊपर गिर जाये और उसके बाद “बुरा न मनो होली है” का शोर। बच्चो के उत्साह को देख कर कपडे ख़राब होने के गम में भी आप चुपके से मुस्कुरा देते। होली आने से पहले ही गलियाँ लाल हरे रंग से नहा उठती थी। अब तो क्या है की रंग वाले केमिकल से चेहरा ख़राब होता है। पानी की भी कमी है। नहाने क लिए पानी तो है नहीं, दुसरो पर क्या पानी डाले! आज कल के बच्चे काफी बीजी हो गए है।  वाट्स एप और जी टॉक से फुर्सत नहीं मिल पाती। भाई, हमारे मोहल्ले में तो बच्चो के भी गैंग  हुआ करते थे। गैंग का इलाका भी होता था। अगर एक गैंग का बच्चा दुसरो के इलाके में पहुँच जाये तो उसे 
बन्दर बना कर ही छोड़ते थे। अब ऐसा है की बच्चा पड़ोस के बच्चो को तो जानते नहीं, इलाका क्या बनायेंगे। पिचकारी भी ज़रा आउट ऑफ़ फैशन हो गया है, शायद उनकूल है इसलिए। 
मैं भी कहाँ खो गया। टोरेंट पर कुछ डाउनलोड के लिए लगा देता हूँ। आज छुट्टी है। कल होली है। 

Sunday, March 3, 2013

चिठ्ठी

बेटी की चिठ्ठी पढ़ी। खुश है वो अपने ससुराल में। कम से कम उसने लिखा तो यही। दामाद पुणे में रहता है। बड़ा शहर, बड़े खर्चे, बड़ी जिम्मेदारियाँ। कल तक तो इतनी छोटी थी मेरी गुड़िया, आज ना जाने कैसे इतनी सारी जिम्मेदारियाँ संभालती होगी। 


कोई शिकायत नहीं थी उसकी चिठ्ठी में। मानो वो अपनी ख़ुशी से ही सबको खुश कर देना चाहती हो। मन तो करता है कि जा कर एक दफा देख आऊं अपनी बेटी का घरौंदा। पर कभी मौका ही नहीं मिला। चौधरी जी आये थे आज, अपने पैसो का तकादा करने, किसी तरह हाथ-पैर पकड़ कर दो महीनो की मोहलत मांगी। २ लाख लिए थे उनसे, दहेज देने के लिए। आज कल दहेज़ की रकम भी तो इतनी बढ़ गयी है, बचपन से अपनी बच्ची तो पूरे लाड-प्यार से पला हैं। मानता हूँ कि उसे और भी पढ़ा सकता था पर जितना मुमकिन था उतना किया। अपनी हैसियत के अनुसार पढ़ाया और शादी की। अब मैं खुद को तो नहीं बेच सकता ना। बेटी मुझे दोष दे सकती है कि मैं उस से प्यार नहीं करता। क्यूंकि मैंने उसे छोटू की तरह कान्वेंट में नहीं पढ़ाया। क्यूंकि मैंने उसे डांस क्लास के पैसे नहीं दिए। क्यूंकि, मैंने उसे अच्छे कपड़े नहीं पहनाये। पर बेटी, मेरी जगह होती तो तुम भी शायद वही करती जो मैंने किया। दुनियादारी देखनी होती है, तुम्हारी दादी के इलाज़ के लिए पैसे बचाने होते हैं। मेरा खुद का तो कोई रिटायर्मेंट प्लान भी नहीं है। ना मुझमे गलत काम करने की शक्ति है, और ना ही कोई गलत स्रोत से आमदनी। तुमने तो अपने पापा को सुबह से शाम तक पसीना बहाते देखा ही है, तब जाकर थोड़े-बहुत पैसे कमा पाते हैं तुम्हारे पापा। तुम्हारे पापा सुपरमैन नहीं है। दर्द तो मुझे भी होता है कि मैंने अपने बच्चे तो वो जिंदगी नहीं दी जो उन्हें चाहिए थी।

पर क्या पैसा ही हर ख़ुशी का राज़ है। हमने जो साथ में पल बिताए वो क्या थे? क्या वो तुम्हे खुश नहीं करते। पता नहीं अमीर होना कैसा लगता है लेकिन मेरी समझ से यादें एहसासों से बनती हैं। सुख-दुःख, प्रेम- घृणा ये सब मिल कर यादें बनाते हैं। पैसों की अहमियत तो दुनिया हमें सिखाती है। अगर हम एक पल के लिए अपनी जिंदगी में से उन लोगों को हटा दे जो हमारे लिए महत्यपूर्ण नहीं है तो शायद पैसे की अहमियत कम हो जाएगी खुशियों के लिए। आवश्यकताओं और इच्छाओं का अंत नहीं है। खुशियाँ तो जिंदगी के टुकड़ों में होती है। अगर हम ये सोच कर बैठे कि शायद हमारी जिंदगी में कोई ऐसा समय आएगा जब हमारी जिंदगी में सिर्फ खुशियाँ ही खुशियाँ होंगी तो मेरी समझ से ऐसा कोई समय नहीं होता है। खुशियों को ढुढ़ना पड़ता है। मेरा विश्वास करो, थोड़ी बहुत दुनिया मैंने भी देखी है।

Friday, March 1, 2013

मैं तो बस एक बोझ हूँ .

कल इक्कीसवा जन्मदिन है मेरा।  आज चौथी बार मुझे सलोनी के नए सलवार कमीज़ में "पैक" कर लड़के वालो के सामने पेश किया गया। "ना " ही करेंगे वो लोग. फ़ोन नहीं उठाएंगे, या बोलेंगे रिश्ते के चाचा का देहांत हो गया, इसलिए अब एक साल तक शादी नहीं हो सकती। कुछ मुँहफट तो सीधे बोलेंगे, "लड़की की हाईट  कम है" या "थोडा रंग कम है" .   माँ कभी कुछ नहीं बोलती। वो भी क्या बोलेगी बेचारी। उसने तो एक दफ़ा तो ये सब देखा हुआ है।  वो भी तो कभी लड़की थी। आज सोचती हूँ  कि आज अगर पापा की नौकरी होती तो मैं भी पूनम मौसी की बेटी की तरह इंजीनियरिंग  करके हजारों सपने बुन कर बैठी होती। ऐसा भी नहीं था कि मेरी पढाई की कोई इच्छा ही नहीं था। मेरे लिए तो मेरे माँ-बाप के पास पढ़ाने के पैसे  ही नहीं थे, वरना इक्कीस  साल की उम्र में शादी कौन करता है।  अभी तो सपने देखने में भी डर  लगता है, अच्छे  सपने गाली लगते है। माँ कहती है कि जल्दी से तेरी शादी कर दूँ तो फिर छोटू को ही आगे तक पढ़ने की जिम्मेदारी रह जाएगी। ठीक ही तो कहती है माँ, वैसे भी मुझे पढ़ा कर उनको क्या मिलेगा। क्या गारंटी है की अगर मैं पढ़ लिख कर नौकरी भी कर रही होती तो मेरा पति मुझे अपने माँ - बाप की मदद करने देगा ? कम से कम छोटू से वो इतनी तो उम्मीद कर ही सकते है। मैं तो बस एक भारी झोले  की तरह हूँ  जो जितनी जल्दी माँ बाप के सर से हट जाये, उनके लिए उतना ही अच्छा हो।  जो लड़की वाले  मुझे पसंद भी कर लेते है, उन्हें भी ढेर सारे पैसे चहिये।  पापा आठ लाख तक देने के लिए  तैयार है।  पता नहीं कहाँ है वो आठ लाख।  ना जाने कितने ही लोग  के सामने  हाथ फैला कर भीख मांगेंगे, और न जाने उनकी कितनी रातें जागी बीतेंगी।


मैं तो बस एक बोझ हूँ .

लड़के वालो की भी अपनी मजबूरी है ; उनकी भी बहनें  होती है। उन्हें भी उनकी शादी करनी होती है।  जितनी ज्यादा पैसा उतना "अच्छा" लड़का . "अच्छा " मतलब "अच्छी " नौकरी वाला। आदमी कैसा है, ये तो शादी के बाद ही पता चलेगा। पापा एक -दो लोगो से पूछेंगे। वो भी बस अपने दिल को सान्तवना देने के लिए। टीवी खरीदने के लिए एक महीने तक  १ ०  कंपनियों के पर्ची रिसर्च करेंगे, और जिन्दगी भर का रिश्ता बस ऐसे ही।

अँधेरा है हर तरफ, कूदने पर ही पता चलेगा की गहराई कितनी है।

लड़के वालो को भी "अच्छी" लड़की चाहिए। "अच्छी" मतलब अच्छी दहेज़ देने वाली। मैं कौन हूँ, इस से किसी को क्या फर्क पड़ता है। मैंने तो अच्छी पढाई भी नहीं की, कोई क्यूँ पसंद  करेगा  मुझे।

काश  मेरा बाप भी अमीर होता। 

Sunday, February 10, 2013

Evolving

I used to get amazed when someone says, "I am passionate about so and so thing." Looked silly to me. Then, I used to perceive these passionate people have excuse of their passion for not to live the way they have been expected.

 I have one such passionate guy. He considers himself to be artist of very high order and at times he gets  cynical of other fellow "artist". He has very keen sense of artist. It is evident when he claims that most beautiful photos of people ( pick the gender ) go unnoticed and UNLIKED. You can see download folder  in his laptop where he has assorted pictures which i guess, is his art collection. So, last semester, he showed his energy and devotion when he started attending all classes nd was going good until he decided to film a short movie on the education initiative run and managed by BITSians cherishing dream of Education For All. Though once deep buried secret of reason why he joined the education movement is no longer unknown to anyone who knows him. Another piece of interesting stuff is that the girl who was source of inspiration to my friend for this noble cause bade this movement good bye, on the same day my dear friend joined. None the less, BIO CDCs gave ample time to his sharp brain which works discreetly, to realize that teaching mess workers at night can help him with another piece of rasmalai at lunch. 

He wont mind if i make more fun of him. But i intended to write about his short video. Later he found genuine concern for those unprivileged people. I remember a day while people were troubled, restless and remembered God in wake of coming exam, he was taking rounds of medical center to get medcial check up for a cripple boy aged 7 whose parents are one of those people whom we don't value much in our campus. So, my friend managed to get appointment from Goa Medical College with a letter of recommendation of a visiting doctor at our medical center. 

Ok, back to his movie. Once he decided to make that movie. All classes were forgotten. He filmed around 500 clips, spent weeks editing and deciding theme, talked and demanded guidance and idea whomsoever he met. For about a month, i found him with his camera all around the campus day and night. This all business of his, for me, was utter waste. He wasted his semester and finally managed Es and Ds. 

I did not bother to see his movie.

Some days back, i saw. It is not awesome, it is not magical, it is not extra ordinary. But if you try, you can see passion. I realized passion. It can do wonders. There is something in that video that is not definable, not explainable, and makes you understand the feeling with which it had been imbibed.    .