जिन्दा हूँ मैं।

जिन्दा हूँ मैं।

हर रोज़ लड़ता हूँ,
खुद की अकांक्षा के बोझ से,
दिन की नीरसता से,
रात के अँधेरे से.


हर रोज सोचता हूँ,
क्या है कल में,
हक़ीक़त और सपनो के अंतर में,
जीवन से सफर के अंत में,

हर रोज़ कोशिश करता हूँ,
आज को जीने की,
गलतियों से सिखने की,
आज को कल से बेहतर बनाने की,

जिन्दा हूँ मैं; क्योंकि,
हर रोज़ लड़ता हूँ,
हर रोज़ सोचता हूँ और
हर रोज़ कोशिश करता हूँ।

Post a Comment

Popular posts from this blog

angrezi paper; Nandan, Champak and Nanhe Samrat

Arrah - The story of 1857

Gaja - The Bangalore traffic diary