Friday, May 30, 2014

चम्पक से वॉट्सएप्प तक



गर्मी की छुट्टी थी,
आम के बगीचे थे,
पेड़ो पर झूले थे,
सूखे पत्तो का ढेर था।

आस-पड़ोस में बच्चे थे,
दादी-नानी की कहानियाँ थी,
नंदन-चम्पक के चीकू-मीकू थे,
लुका-छिपी और साइकिल का शौक था।

गर्मी की छुट्टी है,
कंक्रीट के जंगल है,
हाथ में स्मार्टफ़ोन है,
वॉट्सएप्प और फेसबुक अकाउंट है।

फेसबुक पर ५०० फ्रेंड्स है,
दिल टूटने वाले फेसबुक पोस्ट है,
चम्पक-नंदन वाले चीकू-मीकू खो गए,
लाइक्स और शेयर का शौक है।




Post a Comment